Breaking News

खुल गया राज : कभी सिंधु सभ्यता का प्रमुख व्यापारिक केंद्र था हरियाणा का यह ऐतिहासिक गाँव

भारत का इतिहास सिंधु घाटी सभ्यता से प्रारंभ होता है जिसे हम हड़प्पा सभ्यता के नाम से भी जानते हैं। लगभग 2500 ईस्वी पूर्व यह सभ्यता दक्षिण एशिया के पश्चिमी भाग मैं फैली हुई थी जिसका विस्तार वर्तमान में पाकिस्तान, अफगानिस्तान तथा उत्तर-पश्चिम भारत के इलाकों में था। एक रिसर्च में सामने आया है कि सिंधु काल के दौर में शहरों के मुकाबले गांवों की संख्या ज्यादा थी जिसकी वजह खराब मानसून बताई जाती है। आर्कियोलॉजिकल साइंस जर्नल में पब्लिश रिसर्च के मुताबिक सिंधु काल के दौर में एक शहरी सभ्यता में गाँवों की भूमिका अहम थी। हरियाणा के जिला हिसार में सिंधु घाटी के एक और ग्रामीण स्थल की पहचान हुई है जिसका नाम है गाँव लोहारी राघो। लंदन विश्वविद्यालय व बनारस विश्वविद्यालय समेत अनेक देशों के इतिहासकरों द्वारा किए गए लंबे शोध के बाद यह साफ हो गया है कि इस गांव के तार भी 4 हजार वर्ष पुरानी हड़प्पा सभ्यता से जुड़े हैं। हरियाणा पुरातत्व और संग्रहालय विभाग ने वर्ष 1980 में करवाए गए प्रारंभिक सर्वेक्षण के दौरान गाँव लोहारी राघो के आस-पास दो हड़प्पाकालीन स्थलों की पहचान की। इतिहासाकारों की मानें तो ऐतिहासिक गाँव लोहारी राघो कभी सिंधु सभ्यता के नगर क्षेत्र राखी गढ़ी के दायरे में आने वाला प्रमुख व्यापारिक केंद्र था। उस दौर में सिंधु नगर राखी गढ़ी का ज्यादातर व्यापार इसी गाँव से चलता था। पत्थर नक्काशी व पत्थर निर्मित उत्पाद लोहारी राघो की विशेष पहचान थे। इतिहासकारों व पुरातत्वविदों द्वारा गाँव लोहारी राघो में किए गए लंबे शोध में अनेक चौंकाने वाले राज खुले हैं जिसे जान कर आप भी इस गाँव की गौरवशाली मिट्टी पर गर्व करने लगेंगे।

                                                                     

                                                   दास्तान-ए-लोहारी राघो  

लोहारी राघो से चलता था सिंधु सभ्यता का व्यापार 

  • पत्थर नक्काशी व पत्थर निर्मित उत्पाद थे गाँव की विशेष पहचान
  • विदेशों में भी निर्यात होते थे यहाँ निर्मित पत्थर उत्पाद  
  • इतिहासकारों व पुरातत्वविदों द्वारा किए गए लंबे शोध में खुले चौंकाने वाले कई राज 
  • भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा अब तक वर्ष 2015-16 व 2017-18 में  दो बार अलग-अलग क्षेत्रों में की जा चुकी है खुदाई  
  • टू-रेन्स प्रोजेक्ट के तहत इंग्लैंड के कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय व भारत के बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के इतिहासकारों ने किया उत्खनन
  • खुदाई में निकले पत्थर के टुकड़ों व अन्य अवशेषों की जारी है कार्बन डेंटिंग
  • जल्द पता चलेगा किस काल के हैं खुदाई में निकले अवशेष           

संदीप कम्बोज। विलेज ईरा                                                                                                              हिसार। दुनिया में बहुत कम गाँव-शहर ऐसे हैं जो अपने दीर्घकालीन व अविरल अस्तित्व का दावा कर सकें। भारत में एक और ऐतिहासिक व पुरातन गाँव की पहचान हुई है जिसके तार प्राचीन सिंधु सभ्यता से जुड़े हैं। हरियाणा प्रदेश के जिला हिसार में हड़प्पा सभ्यता के सबसे प्राचीन व सबसे विशाल नगर राखी गढ़ी के दक्षिण पश्चिम में मात्र 5 किमी. दूरी पर स्थित यह ऐतिहासिक स्थल है गाँव लोहारी राघो। (The-Village-of-the-Indus-Civilization-Lohari-Ragho) इस ऐतिहासिक गाँव के इतिहास का एक सिरा 4 हजार साल से भी पुरानी मानव सभ्यता के समय तक जाता है। तब से लेकर आज तक यह गाँव कई बार उजड़ा व बसा। राजधानी नई दिल्ली से 175 किमी. व जिला मुख्यालय से महज 50 किमी. दूरी पर तहसील नारनौंद अंर्तगत स्थित यह गाँव अनेक ऐतिहासिक व पुरातन यादों को समेटे हुए है। भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा यहां अब तक दो बार की गई खुदाई में अनेक ऐसे चौंकाने वाले रहस्यों से पर्दा उठा है जिसे जानकर आप भी इस गाँव की मिट्टी पर गर्व करने लगेंगे। इतिहासकारों की मानें तो हड़प्पाकालीन नगर राखी गढ़ी के सबसे ज्यादा नजदीक व नगर के भीतरी इलाके में स्थित होने के कारण लोहारी राघो उस जमाने का प्रमुख व्यापारिक केंद्र था। पत्थर नक्काशी व पत्थर निर्मित उत्पाद ही लोहारी राघो की मुख्य पहचान थे। यहाँ के व्यापारी अपने पत्थर उत्पादों को भारतवर्ष के साथ-साथ अन्य देशों में भी निर्यात करते थे। आज हम आपको इस ऐतिहासिक गाँव के शानदार व अद्भुत इतिहास से रू-ब-रू करवाने जा रहे हैं। अभी यह कहना तो जल्दबाजी होगा कि गाँव लोहारी राघो का इतिहास कितने वर्ष पुराना है क्योंकि यहाँ से खुदाई में मिले अवशेषों की कार्बन डेंटिंग अभी जारी है जिसकी रिपोर्ट जल्द ही आने वाली है। गाँव के आबाद होने का सही समय तो कार्बन डेंटिंग की रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल पाएगा। लेकिन लोहारी राघो में उत्खनन कार्य का निर्देशन करने वाले बनारस हिंदू विश्वविद्यालय(बीएचयू) के इतिहासकार व पुरातत्वविद प्रोफेसर रविंद्र नाथ का दावा है कि लोहारी राघो का इतिहास लगभग 4 हजार वर्ष से भी अधिक पुराना हो सकता है। (History of the ancient Lohari Ragho) उस काल में यहाँ के लोगों का रहन-सहन, खान-पान व जीवन यापन किस प्रकार का था, इस पर भी शोध जारी है। पाठकों की सुविधा के लिए लोहारी राघो के इतिहास को हमने दो भागों में विभाजित किया है। एक प्राचीन लोहारी राघो व दूसरा आधुनिक लोहारी राघो। प्राचीन लोहारी राघो में हम आपको दुनियाभर के प्रख्यात पुरातत्वविदों द्वारा गाँव लोहारी राघो में अब तक किए गए उत्खनन व शोध के बारे में विस्तार से बताएंगे व आधुनिक लोहारी राघो में हम आपको गाँव के वयोवृद्धों से मिली जानकारी के आधार पर वर्तमानलोहारी राघो के इतिहास के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे। पढ़ें इतिहासकारों व पुरातत्वविदों द्वारा अब तक किए गए शोध के आधार पर ऐतिहासिक गाँव लोहारी राघो की अद्भुत व अनोखी दास्तान। बता रहे हैं विलेज ईरा मासिक पत्रिका के मुख्य संपादक संदीप कम्बोज

लोहारी राघो। गाँव के दक्षिण दिशा में (लाल रंग  के बल्ब आकार में ) में सिंधुं घाटी सभ्यता का यह वही क्षेत्र है जहाँ पुरातत्व विभाग द्वारा खुदाई की गई है।      
 
हड़प्पाकालीन स्थल के तौर पर पहली बार 1980 में हुई लोहारी राघो की पहचान                                  हड़प्पाकालीन नगर राखी गढ़ी के नजदीक होने के कारण दुनियाभर के इतिहासकारों व पुरातत्वविदों की नजर लोहारी राघो पर रही है। (Lohari Ragho was first identified as a Harappan site in 1980) अब तक हुए कई पुरातात्विक सर्वेक्षणों में लोहारी राघो के आस-पास अनेक हड़प्पाकालीन स्थलों की पहचान की गई है। सबसे पहले वर्ष 1980-81 में हरियाणा पुरातत्व और संग्रहालय विभाग द्वारा करवाए गए प्रारंभिक सर्वेक्षण के दौरान डी. सिंह और सी. सिंह ने गाँव लोहारी राघो के आस-पास दो हड़प्पाकालीन स्थलों की पहचान की थी। इस सर्वेक्षण में वे हड़प्पाकालीन आधुनिक नगर राखी गढ़ी से इन पुरातात्विक स्थलों का सही स्थान, दिशा व कुल दूरी के बारे में बताने में असमर्थ रहे। तत्पश्चात वर्ष 2000 व 2006 में किए गए एक अन्य सर्वेक्षण के दौरान इतिहासकार टी. गर्ग ने एक बार फिर लोहारी राघो के आस-पास पुरातन साईटों को रिकॉर्ड किया। टी. गर्ग ने गाँव लोहारी राघो के आस-पास तीन पुरातात्विक स्थलों (साइट)की पहचान की जिसमें ‘एलआर-1: अर्ली हड़प्पा, परिपक्व हड़प्पा और ऐतिहासिक’, ‘एलएच-2: परिपक्व हड़प्पा और ऐतिहासिक’ व  ‘एलएच-3: प्रारंभिक हड़प्पा, परिपक्व हड़प्पा और ऐतिहासिक’ का उल्लेख है। टी.गर्ग द्वारा चिन्ह्ति किए गए ये सभी पुरातात्विक स्थल गाँव लोहारी राघो के पूर्व दिशा में थे व उन्होंने अपनी रिपोर्ट में इन पुरातात्विक स्थलों का आधुनिक लोहारी राघो से संबंध का भी वर्णन किया था। लेकिन टी. गर्ग भी यह बताने में असमर्थ रहे कि क्या ये वही स्थल थे जो 1980-81 में डी. सिंह और सी. सिंह द्वारा खोजे गए थे। इसके बाद वर्ष 2010 में एट.एल सिंह ने भी भूमि, जल और निपटान परियोजना के तहत किए गए एक सर्वेक्षण के दौरान लोहारी राघो में पुरातन सभ्यता के अवशेष होने का दावा किया जिसका उल्लेख इंग्लैंड के इतिहासकार कैमरन ए पेट्री व भारतीय इतिहासकार डांगी ने अपने पीएचडी शोध प्रबंध-2010 में किया है। वर्ष 2009 व 2014 में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय(बीएचयू) के इतिहासकार व पुरातत्वविद प्रोफेसर रविंद्र नाथ व इंग्लैंड के कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के पुरातत्व विभाग के प्रोफेसर कैमरन ए पेट्री के निर्देशन में करवाए गए राखीगढ़ी हिंटरलैंड सर्वेक्षण के दौरान इतिहास ने पहली बार माना कि गाँव लोहारी राघो वास्तव में ही पुरातात्विक स्थल है और यहाँ के इतिहास को जानने व समझने के लिए यहाँ उत्खनन(खुदाई)किया जाना अत्यंत जरुरी है। राखीगढ़ी हिंटरलैंड सर्वेक्षण के दौरान पुरातत्वविदों के सामने सबसे बड़ी चुनौती वर्ष 1980-81 में डी. सिंह और सी. सिंह और वर्ष 2000 व 2006 में टी गर्ग द्वारा पहचाने गए सभी तीनों हड़प्पाकालीन स्थलों को खोजना था। सर्वेक्षण कर रहे  इतिहासकारों ने पाया कि ये सभी साइटें(पुरातात्विक स्थल) एक ही पुरातन टीले पर स्थित हैं। इतिहासकार टी गर्ग ने जिस ‘लोहारी राघो-3 साईट’ की पहचान की थी वह ‘आरएचएस लोहारी राघो-2’ के समान प्रतीत हो रहा था। 
लोहारी राघो। ऐतिहासिक गाँव लोहारी राघो के साथ में दिखाई दे रहा है सिंधु घाटी सभ्यता का प्राचीन ऐतिहासिक नगर राखी गढ़ी। नीले रंग की लाईन में गाँव लोहारी राघो से राखी गढ़ी का मार्ग दर्शाया गया है। 

2014 में हुआ हिंटरलैंड सर्वेक्षण, मार्च 2015 में शुरु हुई खुदाई                                                                                  वर्ष 2014 के मार्च/अप्रैल माह में भूमि, जल और निपटान परियोजना के तहत किए गए राखीगढ़ी हिंटरलैंड सर्वेक्षण के दौरान जिस हड़प्पाकालीन स्थल की पहचान की गई थी, वर्तमान में वह आधुनिक लोहारी राघो के दक्षिण पश्चिम में स्थित है।(The hinterland survey at Lohari Ragho in 2014, excavations started in March 2015) इस पुरातात्विक स्थल(साईट)को ‘लोहारी राघो-1’ नाम दिया गया था। ‘लोहारी राघो-1’ साईट पर किए गए प्रारंभिक सर्वेक्षण में इतिहासकारों को परिपक्व व देर हड़प्पाकालीन व्यवयसायिक गतिविधियों के अनेक साक्ष्य मिले। सर्वेक्षण में इतिहासकारों ने पाया कि लोहारी राघो राखीगढ़ी के प्रमुख शहरी केंद्र के भीतरी इलाके में सिंधु सभ्यता का सबसे संरक्षित व प्रमुख व्यापारिक क्षेत्र था। लिहाजा हड़प्पाकालीन नगर राखी गढ़ी के नजदीकी गाँवों, कस्बों व शहरों के आपसी संबंधों को समझने के लिए लोहारी राघो में उत्खनन कर इतिहास को कुरेदा जाना जरूरी था। हिंटरलैंड सर्वेक्षण के ठीक एक साल बाद वर्ष 2015 में भारतीय पुरातत्व विभाग ने ‘टू-रेन्स’ प्रोजेक्ट के तहत गाँव लोहारी राघो समेत आस-पास के 28 स्थानों पर खुदाई के लिए हरी झंडी दे दी। भारतीय पुरातत्व विभाग की निगरानी में  ‘टू-रेन्स’ प्रोजेक्ट के तहत मार्च 2015 में लोहारी राघो में पहली बार उत्खनन(खुदाई) का काम शुरु हो गया। हिंटरलैंड सर्वेक्षण के दौरान चिन्ह्ति किए गए हड़प्पाकालीन स्थल (लोहारी राघो-1 साईट) पर उत्खनन का कार्य उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित बनारस हिंदू विश्वविद्यालय और इंग्लैंड के लंदन स्थित कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय द्वारा संयुक्त रूप से किया गया था। खुदाई कार्य का निर्देशन बनारस हिंदू विवि के एआईएचसी और पुरातत्व विभाग के प्रोफेसर रविंद्रनाथ सिंह व कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के कैमरन ए पेट्री कर रहे थे।                 

                                                                                                                    



तीन चरणों में कुछ इस तरह चला उत्खनन का सिलसिला                                                                       पहला चरण : मार्च-अप्रैल 2015 में पुरातत्वविदों की टीम ने सबसे पहले लोहारी राघो-1 साइट पर 20 गुना 20 मीटर भू-भाग को चारों और से बिंदुओं से घेरा। (In Lohari Ragho, the process of excavation in three phases went like this) तत्पश्चात एक स्तरीकृत सतह संग्रह रणनीति के तहत भूमी(साइट) की उपरी सतह को तोड़ने(खुदाई) का कार्य शुरु किया गया। यह प्रारंभिक खुदाई साईट पर मिलने वाले पुरातात्विक अवशेषों की गुणवत्ता व संरक्षण के स्तर का पता लगाने के लिए की गई थी। 

दूसरा चरण : लोहारी राघो-1 साइट पर खुदाई का दूसरा चरण मार्च  2017 में चला। इसका मकसद साइट पर अच्छे संरक्षण के क्षेत्रों की पहचान करना था। 

तीसरा चरण : इसी साल सितंबर-अक्टूबर 2017 में चले खुदाइ के तीसरे सत्र में उन हड़प्पाकालीन अवशेषों को जुटाना था जिससे यह पता लगाया जा सके कि उस समय के लोगों का जीवनकाल, रहन-सहन,खान-पान व व्यवसाय क्या था?                          

17 मार्च 2015 से शुरु हुई पहले चरण की खुदाई                                                                                                           लोहारी राघो-1 साइट पर खुदाइ का कार्य 17 मार्च 2015 से शुरु हुआ। जिस पुरातन टीले पर उत्खनन किया गया, वह आसपास के मैदान से लगभग 2.53 मीटर ऊँचाई पर स्थित है। ( First phase excavation at Lohari Ragho started from 17 March 2015) बचे हुए टीले का क्षेत्र लगभग 8.6 हेक्टेयर क्षेत्र में है और उभरी हुई भूमि के एक छोर के मध्य छोर पर स्थित प्रतीत हो रहा है। साइट सतह के विस्तृत स्थलाकृतिक सर्वेक्षण के लिए एक 1200 डिफरेंशियल जीपीएस सेंसर(डीजीपीएस)लेईका सिस्टम का उपयोग किया गया था जो मुख्यत: पुरातात्विक अनुप्रयोगों के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। इस दौरान 650 गुना 550 मीटर क्षेत्र का सर्वेक्षण किया गया था, जिसने निपटान के एक डिजिटल उन्नयन मॉडल (डेम) और आस-पास क्षेत्र में परिदृश्य  के उत्पादन को सक्षम किया। डीईएम द्वारा देखने से पता चला कि टीले वाली जगह का पर्याप्त भाग कृषि के लिए समतल किया गया है, जिससे सीढ़ीदार टीला ( चपटा क्षेत्र) बनाया गया है। साइट के ये महत्वपूर्ण हिस्से थे जो आधुनिक खेती से अपेक्षाकृत कम प्रतीत हो रहे थे। विशेष रूप से साइट के उत्तर और पश्चिम में क्षेत्र (प्राकृतिक ढलान दिखाते हुए क्षेत्र)। वास्तव में इन विशेष क्षेत्रों में कुछ प्राकृतिक स्थलाकृतियों को संरक्षित किया गया था जिसमें टीले को आधुनिक जमीन की सतह की जुताई तक नुक्सान पहुंचाया गया था।    

लोहारी राघो (फोटो-2)। 2015 में किए गए सतह मानचित्रण पर आधारित लोहारी राघो-1 का डिजिटल उन्नयन मॉडल।

एमडी यूनिवर्सिटी के छात्रों ने 529 ग्रिड पॉइंटस से एकत्रित किए अवशेष                                                                 इस शोध में रोहतक स्थित एमडी विश्वविद्यालय के छात्रों का विशेष योगदान रहा। टीले के स्थलाकृतिक सर्वेक्षण के संयोजन में  एक व्यवस्थित सतह संग्रह भी किया गया था। (Remnants collected from 529 grid points at Lohari Ragho by MD University students) एमडी यूनिवर्सिटी के छात्रों ने लोहारी राघो-1 साईट पर 529 ग्रिड पॉइंट की पहचान की व वहां खुदाई कर अवशेषों को एकत्र करने के लिए काम किया। खुदाई में मिले अवशेषों को एक प्लास्टिक बैग में इकट्ठा किया गया था जिसमें संग्रह बिंदु के निर्देशांक दिखाते हुए एक लेबल था जो कि इसके संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए एक छोटे जिप लॉक बैग के अंदर रखा गया था। प्रत्येक बिंदु से एकत्र की गई सामग्री को धोया, सुखाया, सॉर्ट किया गया और फिर श्रेणी के आधार पर (जैसे मिट्टी के पात्र, ईंट के टुकड़े) द्वारा गिना और तौला गया। प्रत्येक बिंदु से निकली सामग्री को अलग से मूल्यांकन किया गया और व्यक्तिगत कालानुक्रमिक अवधि के लिए जिम्मेदार ठहराया गया। सतह के संग्रह को संसाधित करने के इस दृष्टिकोण का मतलब था कि स्थानिक और कालानुक्रमिक रूप से साइट की सतह पर सांस्कृतिक सामग्री की विभिन्न श्रेणियों का पता लगाया जाना संभव था। छात्रों द्वारा डीजीपीएस का उपयोग करके 1 मीटर ऊंचे बांस के खंभे के साथ चिह्नित 20 गुना 20 मीटर वर्ग की साइट ग्रिड का उपयोग किया गया था। एमडी विश्वविद्यालय के छात्रों की सहायता से 20 गुना 20 मीटर साइट ग्रिड पर प्रत्येक बिंदु के आस-पास 2 मीटर व्यास के भीतर से सांस्कृतिक सामग्री का एक व्यवस्थित संग्रह किया गया था। कुल में, ग्रिड ने 440 गुना 440 मीटर के क्षेत्र को कवर किया और एनंल्लएिस और ई. डब्ल्यू दोनों दिशाओं में 23 ग्रिड लाइनें शामिल कीं। इस खुदाई में छात्रों ने अनेक हड्डी व मिट्टी के पात्र एकत्रित किए। व्यवस्थित सतह के सर्वेक्षण से पता चला कि लोहारी राघो-1 को पहले दर्ज किए गए प्रारंभिक, परिपक्व और देर हड़प्पा काल में कब्जा कर लिया गया था जिसके बारे में इससे पहले कभी उल्लेख नहीं किया गया था। लोहारी राघो-1 साईट  पर उत्खनन में मदद करने वाले छात्रों में एम. जांगड़ा, कविता, के. कुमार, एम. कुमार, एस. कुमार, एम. लाल, ममता, एम. म्हणकर, ए.फोगट और सुशील आदि छात्र शामिल रहे। 

प्रारंभिक उत्खनन                                                                                                                                                                          लोहारी राघो-1 साईट पर पुरातात्विक  अवशेषों की गुणवत्ता और संरक्षण के स्तर का आंकलन करने के लिए दो क्षेत्रों में प्रारंभिक खुदाई की गई। इनमें एक तो एनडब्ल्यू के चतुर्थ भाग में उच्च बिंदु पर 2 गुना 2 मीटर भू-भाग पर खुदाई की गई जबकि दूसरा टीला (खाई ए), और एक खड़े खंड (ट्रेंच बी) से सटे 5 गुना 2 मीटर भू-भाग पर खुदाई की गई।
लोहारी राघो (फोटो-7)।2015 में किए गए सतह मानचित्रण के आधार पर लोहारी राघो-1 साईट का डिजिटल अपग्रेड मॉडल।


एलएचआर ट्रेंच ए : खुदाई में मिले दो फायर इंस्टॉलेशन                                                                                              लोहारी राघो-1 साईट पर छोटे से 2 गुना 2 मीटर भू-भाग पर खुदाई के पीछे मकसद संरक्षण के स्तर को स्थापित करना था। यह भू-भाग जुताई से अछूता प्रतीत हो रहा था। साइट के विस्तार का पता लगाने के लिए कुल 28 अलग-अलग बिंदुओं की खुदाई की गई थी जो कि मुख्यत: शुरूआती या शुरूआती परिपक्व हड़प्पा काल के कब्जे वाले डेटिंग के एक प्रमुख चरण से संबंधित हैं। उत्खनन में दो फायर इंस्टॉलेशन का पता चला। इनमें से बड़ा पुनर्निर्माण के कई चरणों के संकेत दिखा रहा था। इन विशेषताओं को मिट्टी के ईंट ढहने की पर्याप्त मात्रा से पूरा किया गया था जो यह बताता है कि साइट के इस हिस्से को एक टकराव में नष्ट होने के बजाय छोड़ दिया गया था। 

लोहारी राघो (फोटो-8)। गाँव लोहारी राघो में खुदाई के दौरान निकली दो बड़ी फायर सरंचनाएं(दाएं)।

एलएचआर ट्रेंच बी :  मध्य राजस्थान और हिमालय की तलहटी से था लोहारी राघो के बाशिंदों का संबंध                          टीले के विभिन्न हिस्सों में संरक्षण के स्तर का पता लगाने के लिए तीन छोटे हिस्सों की खुदाई  की गई थी।  एक अन्य 5 गुना 2 मीटर भू-भाग पर पुरातात्विक श्रृंखला के त्वरित मूल्यांकन के लिए खुदाई की गई। (Relation of the residents of Lohari Ragho to the foothills of Central Rajasthan and Himalayas.) दुर्भाग्य से यह उजागर खंड पुरातात्विक टीले के पहले के स्तर से निर्मित किया गया प्रतीत हो रहा था। पुरातत्विदों को यहांमिले अवशेषों में गड़बड़ी के कुछ संकेत दिखाई दिए। यह खोज विशेष रूप से निराशाजनक थी क्योंकि यह क्षेत्र कलाकृतियों में अपेक्षाकृत समृद्ध साबित हुआ। लोहारी राघो-1 के सतह मानचित्रण, सतही सर्वेक्षण और प्रारंभिक उत्खनन में सतह से बरामद की गई सामग्री के आधार पर जो सबसे महत्वपूर्ण बात सामने आई वह यह थी कि लोहारी राघो राखीगढ़ी के सिंधु शहरी स्थल के सबसे महत्वपूर्ण स्थलों में से एक है। उत्खनन मेें बरामद सामग्री यह प्रदर्शित कर रही थी कि साइट प्रारंभिक, परिपक्व और देर हड़प्पा काल के दौरान बसी थी। मिट्टी के बर्तनों पर क्लासिक हड़प्पा काले रंग की शुद्धता को देखते हुए पुरातत्विदों को संभावना है कि साइट पर उपयोग में आने वाले अधिकांश अवशेषों को या तो साइट पर ही उत्पादन किया जाता था या निकट के अन्य स्थलों राखीगढ़ी आदि से लाया जाता था। इसके अलावा सतह से  ढ़ेर सारे पत्थर के टुकड़े बरामद किए गए। पत्थर के इन टुकड़ों को पीसने की विविधता यह दशार्ती है कि यहाँ के बाशिंदों का संपर्क मध्य राजस्थान और लंबी दूरी तक हिमालय की तलहटी से था।

एलएचआर ट्रेंच ईए : सितंबर-2017 में खुदाई पर ब्रेक                                                                                                  लोहारी राघो-1 साईट पर वर्ष 2017 में एक बार  फिर से सर्वेक्षण और उत्खनन दो अलग-अलग मौसम(समय) में किया गया। पहली खुदाई मार्च और अप्रैल में तो दूसरी सितंबर व अक्तूबर में की गई। हालांकि साइट पर कृषि गतिविधियां 2015 से जारी थी, कोई भी बड़ी लेवलिंग नहीं की गई थी। ए 2 एक्स 2 मीटर की खाई को साइट के उच्चतम संरक्षित हिस्से पर खोला गया था, जो एक क्षेत्र के किनारे पर दिखाई देने वाली मिट्टी की ईंटों से सटे थे। हल की मिट्टी की एक परत के नीचे, परिपक्व हडप्पन सिरेमिक वाले पुरातात्विक जमा का सामना करना पड़ा। एक मिट्टी की संरचना या मंच के निशान आधुनिक जमीन की सतह (फोटो 9) के नीचे लगभग 45 सेमी की गहराई पर पाए गए थे।  सितंबर-अक्टूबर 2017 में लंबित विस्तारित खुदाई को रोक दिया गया था।

लोहारी राघो (फोटो-9)। गाँव लोहारी राघो में खुदाईके दौरान निकली गीली मिट्टी की सरंचना।

एलएचआर ट्रेंच ईबी : जमीन से 5 फीट नीचे मिले बर्तन व कंकर                                                                               ए 2 एक्स 2 एम ट्रेंच मुख्य टीले के पूर्वी भाग पर खोला गया था। हल की मिट्टी की एक परत के नीचे, मिश्रित / परेशान पुरातात्विक जमा सीमित सांस्कृतिक सामग्री से युक्त थे, और प्लास्टिक और आधुनिक ईंट के टुकड़े के रूप में साइट समतल करने के लिए स्पष्ट प्रमाण। आधुनिक जमीन की सतह के नीचे 50 सेमी से, पुरातात्विक सामग्री से युक्त जमा का सामना करना पड़ा, लेकिन कुछ मिट्टी के बर्तनों को बरामद किया गया। कंकर का सामना आधुनिक जमीन की सतह से 150 सेंटीमीटर नीचे, और प्राकृतिक मिट्टी 175 सेमी (चित्र 10) की गहराई से किया गया था। 

लोहारी राघो (फोटो-10)। खाई ईबी एलएचआर ट्रेंच के उत्तर खंड का दृश्य । 

एलएचआर ट्रेंच एनए 1 : खुदाई में मिली मिट्टी ईंट की दो दीवारें                                                                                       ट्रेंच ईए के उत्तर में क्षेत्र में, एक और 2 एक्स 2 मीटर खाई की खुदाई की गई थी ।  ट्रेंच एनए 1 जुताई मिट्टी की एक परत के नीचे, स्पष्ट रूप से विभेदित पुरातात्विक जमा का सामना करना पड़ा, जिसमें मिट्टी के पात्र, हड्डी और ईंट के टुकड़े शामिल थे। आधुनिक जमीन की सतह के नीचे लगभग 65 सेमी की गहराई पर, एक मिट्टी ईंट की संरचना के निशान का पता चला, जिसमें दो दीवारें शामिल थीं (चित्र 11)। खुदाई जारी नहीं थी।प्रशिक्षण के साथ मदद करने के लिए साइट के दक्षिणी हिस्सों पर एक 2 गुना 2 मीटर खाई भी खुदाई की गई थी। 

लोहारी राघो(फोटो-11)।  ट्रेंच एनए-1 में निकली मिट्टी की ईटों की सरंचना।

ट्रेंच ईए खुदाई और प्रलेखन : सितंबर-अक्टूबर में खुले क्षेत्र की खुदाई                                                                         मार्च और अप्रैल में खुदाई के बाद, ट्रेंच ईए के आसपास के क्षेत्र में खुदाई कार्य आरंभ हुआ। घरेलू संरचनाओं को उजागर करने के उद्देश्य से खुले क्षेत्र की खुदाई के लिए आदर्श स्थान के रूप में चुना गया और बस्ती में कब्जे के विभिन्न अवधियों से संबंधित कार्य क्षेत्र। इन खुदाई 5 गुना 5 मीटर खाइयों पर केंद्रित एक मानक उत्खनन दृष्टिकोण के साथ शुरू हुई, लेकिन एक बार संरचनाओं के सामने आने के बाद इसे एक खुले क्षेत्र की खुदाई में बदल दिया गया था। 8 सितंबर 2017 से 12 अक्तूबर 2017 के बीच पांच सप्ताह में ट्रेंच ईए से सटे क्षेत्र पर किए गए उत्खनन कार्य किया गया था। इस दौरान  टीम ने 20 गुना 10 मीटर क्षेत्र को साफ किया था लेकिन विस्तृत खुदाई केवल 10 गुना 10 मीटर (छवि 12) के एक क्षेत्र में आयोजित की गई थी। इस दौरान कब्जे के कम से कम तीन चरणों से संबंधित, कुल 97 अलग-अलग स्ट्रैटिग्राफिक संदर्भों को उजागर किया गया था जो प्रारंभिक और परिपक्व हड़प्पा चरणों दोनों में हैं। 

लोहारी राघो(फोटो-12)। गाँव लोहारी राघो में पुरातत्व साईट ट्रेंच ईए में वास्तुकला का अद्भुत नमूना। 

लोहारी राघो(फोटो-13)। गाँव लोहारी राघो में पुरातत्व साईट ट्रेंच ईए में खुदाई के दौरान उत्खनन क्षेत्र की तस्वीर। 

लोहारी राघो(फोटो-14)। गाँव लोहारी राघो में पुरातत्व साईट ट्रेंच ईए में खुदाई के उपरांत ली गई उत्खनन क्षेत्र की तस्वीर।

लोहारी राघो(फोटो-15)। गाँव लोहारी राघो में पुरातत्व साईट ट्रेंच ईए में प्राकृतिक मिट्टी तक पहुंचने के लिए की गई खुदाई की तस्वीर। 

मसूदपुर, गिरवाड़ और फरमाना से मिलते-जुलते हैं लोहारी में निकले अवशेष                                                              गाँव लोहारी राघो में चली खुदाई से सांस्कृतिक सामग्री की भी एक श्रृंखला बरामद की गई थी जिसका विश्लेषण जारी है। ( Remnants found in Lohari ragho similar to Masoodpur, Girwad and Farmana)  जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, साइट की सतह से सिरेमिक सामग्री प्रारंभिक, परिपक्व और देर हड़प्पा काल से चली आ रही थी, और इसमें प्रारंभिक ऐतिहासिक सामग्री भी शामिल थी। उत्खनन क्षेत्रों से मिट्टी के पात्र में प्रारंभिक और प्रारंभिक परिपक्व हड़प्पा पोत रूपों (चित्र 16) दोनों शामिल थे। बर्तनों पर क्लासिक हड़प्पा काले रंग के टुकड़े की एक छोटी संख्या को सतह और खुदाई से एकत्र किया गया था, इस धारणा को मजबूत करते हुए कि यह विशेष बर्तन परिपक्व हड़प्पा काल के दौरान शहरी केंद्रों के बाहर दुर्लभ है। सिरेमिक सामग्री में मसूदपुर, गिरवाड़ और फरमाना में साइटों की सामग्री के साथ स्पष्ट समानताएं हैं।

लोहारी राघो के लोगों को पसंद था मांसाहार                                                                                                           4 हजार साल पुरानी सिंधु घाटी सभ्यता के लोगों का खानपान कैसा था, इसका खुलासा एक रिसर्च में हुआ है। रिसर्च कहती है कि इस सभ्यता के लोगों को मांस खाना अधिक पसंद था। (The people of Lohari Ragho loved meat) गांव हो या शहर लोगों का खानपान एक जैसा था। ये गाय, भैंस, बकरी और सुअर का मांस खाते थे। कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के रिसर्चर अक्षयेता सूर्यनारायण ने अपनी रिसर्च में बताया कि सिंधु घाटी सभ्यता के दौरान लोगों का खानपान कैसा था। सिंधु घाटी क्षेत्र के गाँव लोहारी राघो व आस-पास के गाँवों में की गई खुदाई में मिले मिट्टी के बर्तन और खानपान के तौर-तरीकों के आधार पर यह रिसर्च की गई है। रिसर्च मुख्य रूप से हरियाणा में सिंधु घाटी सभ्यता के क्षेत्र राखीगढ़ी (हिसार) में हुई। इसके अलावा लोहारी राघो (हिसार), मसूदपुर (हिसार) और आलमगीरपुर (मेरठ, उत्तर प्रदेश) से मिले मिट्टी के बर्तनों को इकट्ठा किया गया। 

यह फसलें उगाते थे लोहारी राघो के लोग                                                                                                                    इन बर्तनों से लिए गए सैंपल की जांच की गई तो पता चला कि इनमें मांस पकाया जाता था। (The people of Lohari Ragho used to grow these crops) उस दौर में जौ, गेहूं, चावल, अंगूर, खीरा, बंैगन, हल्दी, तिल और जूट की फसल उगाई जाती थी। इसके अलावा उस दौर की फसल का अध्ययन भी किया गया है।

मवेशियों में गाय-भैंस की संख्या ज्यादा                                                                                                                            रिसर्च के मुताबिक, उस दौर में गाय और भैंस मुख्य मवेशी थे क्योंकि इलाके के मिले हड्डियों के 50 से 60 फीसदी अवशेष इन्हीं के हैं। मात्र 10 फीसदी हड्डियां बकरियों की हैं। अवशेष बताते हैं कि उस समय के लोगों का पसंदीदा मांस बीफ और मटन रहा होगा। गायों का इस्तेमाल दूध के लिए किया जाता था। बैल खेती के लिए पाले जाते थे। इसके अलावा यहां सुअर, हिरण और पक्षियों के अवशेष भी मिले हैं।

लोहारी राघो(फोटो-16)। गाँव लोहारी राघो में खुदाई में निकले मिट्टी के बर्तन। (फोटो: एलेसेंड्रो सेकेरेल्ली)

लोहारी राघो(फोटो-17)।  गाँव लोहारी राघो में खुदाई में निकले कारेलियन, फायनेस और स्टीटाइट बीड्स (फोटो: बरुन सिन्हा)। 
लोहारी राघो खुदाई में निकले अवशेषों की जारी है कार्बन डेंटिंग, अभी खुलेंगे और राज                                        गाँव लोहारी राघो में पुरात्तव विभाग द्वारा किए गए कोरिंग सर्वेक्षण के आधार पर इस पुरातन टीले के चारों ओर 4 किमी 2 क्षेत्र में खुदाई कर  यह पता लगाने का प्राया किया गया था कि क्या वास्तव में ही ये टीले पुरातात्विक हैं।  (Carbon Denting Continues Of Lohri Ragho Excavations) गाँव में दो चार साल तक अलग-अलग समय में की गई खुुदाई के दौरान 27,500 से अधिक मिट्टी के बर्तनों के टुकड़े व 242 छोटे पुरावशेष प्राप्त हुए जिनका वजन 359 किलोग्राम था। फिलहाल इन सभी अवशेषों को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में रखा गया है। पुरात्तवविदों द्वारा खुदाई में निकली जानवरों की हड्डियों, मिट्टी के नमूनों, जिप्सम और तलछट को व्यवस्थित रूप से एकत्र किया गया था जिसे आसपास के क्षेत्र के लिए स्ट्रोंटियम बेसलाइन स्थापित करने के लिए इस्तेमाल किया गया। सतह और उत्खनन से एकत्र किए गए की गई सामग्री में विशेष रूप से पत्थर के टुकड़े और मोतियों को शामिल किया गया है जैसा कि चित्र 17 में दिखाया गया है।  लोहारी राघो में खुदाई के दौरान सबसे दिलचस्प खोज लगभग 240 पत्थर के टूकड़ों की बरामदगी, जिसमें क्वार्न्स, मोर्टार, मुलर, मूसल, व्हीटस्टोन और हथौड़ा पत्थर शामिल थे (चित्र 18)। खुदाई के दौरान इस तरह के सामानों के छोटे टुकड़े बरामद हुए। सतह से कई पीसने वाले पत्थरों को इस हद तक संरक्षित किया गया था कि यह उन उदाहरणों के लिए टाइपोलॉजिकल समानताएं देखना संभव था जो राखीगढ़ी से बरामद किए गए हैं। यद्यपि पहचान का कोई औपचारिक प्रयास अभी तक नहीं हुआ है, लेकिन इन पीस पत्थरों को बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाले पत्थर के कच्चे माल में मुख्य रूप से लाल / गुलाबी दिल्ली क्वार्ट्जाइट दिखाई देता है। हालाँकि कुछ पत्थर तोशाम के ग्रेनाइट जैसा भी प्रतीत होता है। कुछ पत्थर पाकिस्तान में सुलेमान रेंज से पाब बलुआ पत्थर व हिमालयी मूल के गोल कोबल्स थे। साइट की सतह पर इन पीस पत्थरों की आवृत्ति से पता चलता है कि यहाँ गहन फसल प्रसंस्करण किया जा रहा था, हालांकि यह अभी तक स्थापित करना संभव नहीं है कि इस गतिविधि को किस अवधि या वर्ष में केंद्रित किया गया था। अन्य सांस्कृतिक सामग्री के विपरीत इन पीस पत्थरों का वितरण विशेष रूप से जानकारीपूर्ण नहीं था, क्योंकि उनमें से लगभग सभी को क्षेत्र की सीमाओं से बरामद किया गया था, जहां उन्हें या तो किसानों द्वारा जानबूझकर जमा किया गया है, या जुताई के परिणामस्वरूप। लोहारी राघो में खुदाई में मिले अवशेष राखीगढ़ी में मिले अवशेषों से पूरी तरह से मेल खाते हैं। 3 हजार साल पूर्व लोहारी राघो के बाशिंदों ने जिस कच्चे माल(पत्थर आदि) के जमाव का नेटवर्क तैयार किया था, वैसे ही पत्थरोें का नेटवर्क राखी गढ़ी व आस-पास के इलाकों में खुदाई में मिला है। लोहारी राघो की खुदाई में मिले पत्थरों के अवशेषों से यह पूरी तरह से साफ हो गया है कि 3 हजार साल पूर्व यहाँ के बाशिंदों ने पत्थर कारोबार के लिए अपने द्वार पूर्व में 10 किमी के दायरे में स्थित हड़प्पा सभ्यता के सबसे बड़े नगर राखी निवासियों के लिए भी खोल रखे थे। लोहारी राघो में खुदाई के दौरान चयनित अवशेषों व नमूनों की कार्बन डेंटिंग फिलहाल उत्तर प्रदेश स्थित बनारस विश्वविद्यालय में प्रक्रिया में है। यहाँ इन अवशेषों की कार्बन डेंटिंग की जा रही है जिसकी रिपोर्ट बहुत जल्द ही आने वाली है। इस कार्बन डेंटिंग रिपोर्ट आने के बाद संभवत: गाँव लोहारी राघो के इतिहास के संबंध में और अधिक राज खुल सकते हैं।  
लोहारी राघो(फोटो-18)। गाँव लोहारी राघो में उत्खनन के दौरान निकले पत्थरों के छोटे-छोटे टूकड़ों का दृश्य। 





ये हैं गाँव लोहारी राघो में उत्खनन करने वाले इतिहासकार व पुरातत्वविद 

1.  रविंद्रनाथ सिंह, एआईएचसी और पुरातत्व विभाग ,बनारस हिंदू विश्वविद्यालय

2.  कैमरन ए पेट्री, पुरातत्व विभाग, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय, इंग्लैंड   

3.  जेनिफर बेट्स, मैकडॉनल्ड्स इंस्टीट्यूट फॉर आर्कियोलॉजिकल रिसर्च, कैम्ब्रिज विवि

4.  एलेसेंड्रो सेकेरेल्ली, पुरातत्व विभाग, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय,इंग्लैंड

5.   ए. आलम, एआईएचसी और पुरातत्व विभाग, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय          

6.   एस. चक्रवर्ती, एआईएचसी और पुरातत्व विभाग, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय

7    एस. चक्रधारी, एआईएचसी और पुरातत्व विभाग, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय

8.   ए .चौधरी, एआईएचसी और पुरातत्व विभाग, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय

9.   वाई. दीक्षित, सिंगापुर की पृथ्वी वेधशाला,

10.  सी.ए.आई. फ्रेंच,पुरातत्व विभाग, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय 

11.   ए. गिशे, पृथ्वी विज्ञान विभाग, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय,  इंग्लैंड

12.   ए.एस. ग्रीन, मैकडॉनल्ड्स इंस्टीट्यूट फॉर आर्कियोलॉजिकल रिसर्च, कैम्ब्रिज विवि

13.  एल.एम. ग्रीन,मैकडॉनल्ड्स इंस्टीट्यूट फॉर आर्कियोलॉजिकल रिसर्च, कैम्ब्रिज विवि 

14.  पी.जे. जोन्स, पुरातत्व विभाग, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय, इंग्लैंड 

15.  ई .लाइटफुट, मैकडॉनल्ड्स इंस्टीट्यूट फॉर आर्कियोलॉजिकल रिसर्च, कैम्ब्रिज विवि

16.  ए.के. पांडे,एआईएचसी और पुरातत्व विभाग, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय 

17.  वी. पंवार, इतिहास विभाग, एमडी विश्वविद्यालय, रोहतक, हरियाणा

18.   ए.रंजन,एआईएचसी और पुरातत्व विभाग, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय

19.   डी.आई. रेडहाउस, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय, इंग्लैंड    

20.   डी.पी. सिंह, एआईएचसी और पुरातत्व विभाग, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय    

21.    ए .सूर्यनारायण, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय, इंग्लैंड    

22.    एम.सी. उस्तुनकाया,मैकडॉनल्ड्स इंस्टीट्यूट फॉर आर्कियोलॉजिकल रिसर्च, कैम्ब्रिज विवि 

23.   जे.आर. वाकर,मैकडॉनल्ड्स इंस्टीट्यूट फॉर आर्कियोलॉजिकल रिसर्च, कैम्ब्रिज विवि 






No comments

होम | गोपनीयता | साईट जानकारी | विज्ञापन रेट | आर्काईव | अस्वीकरण | हमारे साथ काम करें | हमारे बारे में | हमसे संपर्क करें |